एरिक एरिक्सन का मनोसामाजिक सिद्धांत / व्यक्तित्व का मनोसामाजिक  सिद्धांत

दोस्तों अगर आप बीटीसी, बीएड कोर्स या फिर uptet,ctet, supertet,dssb,btet,htet या अन्य किसी राज्य की शिक्षक पात्रता परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो आप जानते हैं कि इन सभी मे बाल मनोविज्ञान विषय का स्थान प्रमुख है। इसीलिए हम आपके लिए बाल मनोविज्ञान के सभी महत्वपूर्ण टॉपिक की श्रृंखला लाये हैं। जिसमें हमारी साइट articlehindi.com का आज का टॉपिक एरिक एरिक्सन का मनोसामाजिक सिद्धांत / व्यक्तित्व का मनोसामाजिक  सिद्धांत है।

एरिक एरिक्सन का मनोसामाजिक सिद्धांत / व्यक्तित्व का मनोसामाजिक  सिद्धांत

एरिक एरिक्सन का मनोसामाजिक सिद्धांत / व्यक्तित्व का मनोसामाजिक  सिद्धांत
एरिक एरिक्सन का मनोसामाजिक सिद्धांत / व्यक्तित्व का मनोसामाजिक  सिद्धांत

(Erik Erikson) एरिक इरिक्सन का व्यक्तित्व का मनो-सामाजिक सिद्धान्त

एरिक एरिक्सन (1902-1994) उनके मनोविश्लेषकों (psycho-analyst) में से एक हैं जिनकी सामान्यतः एक अहं मनोवैज्ञानिक (ego psychologist) के रूप में पहचान की गयी है। इरिक्सन के व्यक्तित्व सिद्धान्त भी मानव प्रकृति (human nature) के बारे में कुछ विशेष पूर्वकल्पना करता है। इन पूर्वकल्पनाओं को संक्षेप में इस प्रकार वर्णन किया जा सकता है-

• इरिक्सन का मनोसामाजिक सिद्धान्त मानव प्रकृति में पूर्णतावाद (holism), पर्यावरणीयता (environmentalism) तथा परिवर्तनशीलता (changebility) को सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण बतलाया है-

•इरिक्सन ने व्यक्तित्व के सिद्धान्त में अपना अहं (ego) का विकास (development) एवं उसके कार्यों (functions) पर केन्द्रित किया है।

इनके द्वारा प्रतिपादित व्यक्तिव सिद्धान्त में मनोसामाजिक विकास (psychosocial development) की आठ अवस्थाओं का वर्णन है।


1. विश्वास बनाम अविश्वास (Trust Vs Mistrust)

2.स्वतन्त्रता बनाम शर्म (सन्देह) (Autonomy Vs Shame Doubt)

3. पहल बनाम ग्लानि (Initiative Vs Guilt)

4. परिश्रम बनाम हीनता (Industry Vs Inferiority)

5. अस्तित्व बनाम भूमिका बन्द्र (Identity Vs Role Confict)

6. (युवा प्रौद) घनिष्ठता बनाम अकेलापन (Intimacy Vs Isolatin)

7. (मध्य आयु) उत्पादकता बनाम ठहराव (Productivity Vs
Stagnation)

8. (बुढ़ापा) सत्यनिष्ठता बनाम नैराश्य (Egointegrity Vs Dispair)

                                        निवेदन

आपको यह टॉपिक कैसा लगा , हमें कॉमेंट करके जरूर बताएं । आपका एक कॉमेंट हमारे लिए बहुत उत्साहवर्धक होगा। आप इस टॉपिक एरिक एरिक्सन का मनोसामाजिक सिद्धांत / व्यक्तित्व का मनोसामाजिक  सिद्धांत को अपने मित्रों के बीच शेयर भी कीजिये ।

Leave a Comment